ताकत

बाल मेले में गैस के रंग बिरंगे गुब्बारों को उड़ता देख एक बालक ने गुब्बारे वाले से पूछा अंकल क्या हरे ,नीले ,पीले ,लाल इन रंग बिरंगे गुब्बारों की तरह काले रंग का गुब्बारा भी हवा में उड़ सकता है?गुब्बारे वाले ने बालक को गौर से देखा वह काले रंग का बदसूरत सा बालक फटे हाल उसके सामने खड़ा काफ़ी देर से उन उड़ते हुए गुब्बारों को बड़ी तन्मयता से देख रहा था ।उसने बालक को बताया कि ये गुब्बारे अपने रंग के कारण नही अपितु उस गैस के कारण उड़ रहे जो मैंने इन में भर दी है।बालक को उसके प्रश्न का उत्तर मिल गया था कि इन्सान यदि अपनी ताकत को पहचाने और उसका सही उपयोग करे तो सब कुछ कर सकता है।समय के साथ संघर्ष करता हुआ यहीं बालक आगे चलकर साऊथ अफ्रीका का राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला बना।हमें ईश्वर ने अनेक शक्तियों के साथ इस संसार में भेजा है।अब ये हम पर निर्भर करता है कि हम अपनी ताकत को पहचान कर उसका उपयोग करे या जीवन भर परिस्थियों और भाग्य का रोना रोते रहे।

One thought on “ताकत

Comments are closed.